70 साल में कुछ नही किया और जो तुम बेच रहे हो वो तुम्हारी नानी दहेज में लायी थी क्या? अभिनेत्री नगमा

लोकतंत्र में सरकार का चयन इसलिए किया जाता है ताकि वो संविधान के दायरे में रहकर देश को एक लोकतांत्रिक प्रक्रिया के तहत चलाए. देश को सुचारू रूप से चलाने में सरकारी विभागों के साथ ही सरकारी कंपनियों का भी महत्वपूर्ण योगदान होता है. लेकिन नरेंद्र मोदी सरकार लगातार सरकारी कंपनियों का निजीकरण करती जा रही है. रेलवे, दूरसंचार जैसे महत्वपूर्ण विभागों में भी एक तरह से निजीकरण शुरू हो चूका है.

जिस तेजी के साथ बीजेपी सरकार सरकारी कंपनियों को बेच रही है, उसका चौतरफा विरोध देखने को मिलने लगा है. देश भर में निजीकरण के खिलाफ गुस्से का माहौल देखने को मिल रहा है. खासतौर पर रेलवे में निजीकरण का विरोध जोरो पर हैं.

Nagma

इसी बीच मेरठ-हापुड़ लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार रही फिल्म अभिनेत्री नगमा ने केंद्र सरकार और पीएम नरेंद्र मोदी पर तीखा ह’मला बोला है. उन्होंने एक ट्वीट करके मोदी सरकार पर निशाना साधाते हुए निजीकरण के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर किया है.

नगमा ने अपने ट्वीट में लिखा कि अरे भाई अगर कांग्रेस ने 70 सालों में कुछ भी नहीं किया है तो तुम जो बेच रहे हो वो तुम्हारी नानी दहेज में  आई थी क्या..?

वहीं इससे पहले कांग्रेस के नेता अखिलेश सिंह ने भी एक सभा में बोलते हुए पीएम मोदी और बीजेपी सरकार पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा था कि निकम्मी औलाद हमेशा पूर्वजों की संपत्ति बेच देती है. जहां उन्होंने सीधे तौर पर पीएम मदों को निशाने पर लिया था.

विपक्ष का आरोप है कि सरकार निजीकरण करके देश को गुलामी की तरफ लेकर जा रही है. बीजेपी सरकारी संसाधनों को पूंजपीतियों के हाथों में सौंप रही है, जबकि यही संसाधन देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत प्रदान करते रहे है. लेकिन अब सरकार फायदे वाले सभी संसाधन देश के कुछ चुनिंदा पूंजीपतियों को बेच रही है.

मोदी सरकार का तर्क है कि अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए निजीकरण किया जा रहा है. लेकिन असल में इससे देश की नहीं बल्कि सिर्फ पूंजीपतियों की अर्थव्यवस्था ही मजबूत होगी. इसमें कोई भी दोराह नहीं है कि व्यवसाय करने वाले व्यक्ति का एकमात्र उद्देश्य मुनाफा कमाना होता है.

उन्हें देश या फिर समाज से कोई मतलब नहीं होता हैं. यदि उस कंपनी को देश की किसी भी कीमत पर भी अपना मुनाफा दिख रहा हो तो वो मुनाफे की ओर ही कदम उठती हैं.

Leave a Comment