biden

अमेरिकी सरकार का बड़ा ऐलान, अमेरिका में बसने वाले अफगानी शरणार्थी को मिलेगी 1.6 लाख रुपये की सरकारी मदद

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद से ही वहां अफरा-तफरी का माहौल बना हुआ है. अफगानी तालिबानी शासन से बचने के लिए देश छोड़ने को मजबूर हो रहे है. अफगानी लोग अपने ही देश को छोड़कर दुसरे देशों में शरणार्थी बनकर पहुंच रहे है. इस आ’तं’कवादी संगठन के डर के चलते अफगानिस्तान से लोग लगातार निकल रहे है. लोग कनाडा, कतर और अमेरिका जैसे देशों में शरण ले रहे है.

वहीं अमेरिका में शरण लेने वाले अफगानों के लिए बड़ी राहत भरी खबर सामने आई है. अपनी जा’न बचाने के लिए अपना देश छोड़कर अमेरिका आए अफगानियों के लिए अमेरिका सरकार आर्थिक मदद करने का ऐलान किया है.

Afghan refugees in us

बाइडेन प्रशासन और करीब 200 से अधिक निजी एजेंसियां मिलकर ​​हजारों अफगानों को अमेरिका में बसाने के लिए एक सिस्टम तैयार करने पर काम कर रही है. इतना ही नहीं विदेश मंत्रालय की तरफ से हर अफगानी को 2,275 डॉलर (करीब 1.6 लाख रुपये) की आर्थिक सहायता भी उपलब्ध कराई जाएगी.

अमेरिका द्वारा दी जाने वाली इस मदद का इस्तेमाल करके आवास, भोजन, बच्चों का स्कूल में दाखिला और अन्य जरूरतों को पूरा किया जा सकेगा.

क्रिस जॉर्ज जो न्यू ह्यूस्टन में शरणार्थी और अप्रवासी सेवाओं के कार्यकारी निदेशक है ने कहा कि यह रोज होने वाला कार्य नहीं है, हम इसके लिए पहले ही तैयार नहीं है और ना हमें पहले ऐसा कुछ किया है. लेकिन हम तैयारी कर रहे है, यह एक आपातकालीन स्थिति है.

इस मानवीय पहल के तहत करीब 50,000 से अधिक अफगानियों के आने की संभावना जताई जा रही है. इन लोगों को स्टॉपगप स्कीम के तहत अमेरिका के स्थाई वीजा के लिए आवेदन देने के लिए एक साल का वक्त दिया गया है.

वहीं ऐसे लोग जिन्होंने सीधे अमेरिकी सरकार के लिए कार्य किया है, उन्हें अलग अप्रवासियों की कैटेगरी में रखा जाएगा. अल-जजीरा की रिपोर्ट के मुताबिक हिब्रू इमिग्रेंट एड सोसाइटी के मुख्य कार्यकारी मार्क हेटफील्ड ने कहा कि हम निजी संगठनों के समर्थन का एक अभूतपूर्व स्तर देख रहे है जो पहले कभी नहीं देखा गया.

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार निजी कंपनी Airbnb के प्रवक्ता क्रिस लिहाने ने दुनिया भर में 20,000 विस्थापित अफगानों को अस्थायी आवास प्रदान करने का प्रस्ताव रखा है. वहीं वॉलमार्ट ग्रुप ने 1 मिलियन डॉलर की सहायता देने का ऐलान किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *