Bihar Elections 2020: टिकट बंटवारे में पिता के नक्शे-कदम पर पुत्र, तेजस्वी यादव ने 24 में से 7 टिकट दिए…

बिहार में जल्द ही विधानसभा चुनाव होने जा रहे है लेकिन इससे पहले एक बार फिर से परिवारवाद को लेकर बहस छिड़ गई है. बिहार विधानसभा चुनाव के बीच सवाल उठाने लगे है कि क्या परिवारवाद को बढ़ावा दिया जा रहा हैं? ऐसे सवालों से खास तौर पर आरजेडी चौतरफा घिरी हुई है. RJD पर परिवारवाद को आगे बढ़ाने के आरोप लग रहे है. यह सवाल आरजेडी की चुनावी उम्मीदवारों की लिस्ट सामने आने के बाद उठ रहे है.

दरअसल राजद पार्टी के सर्वेसर्वा लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे और पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने सोमवार को 24 उम्मीदवारों के नाम की घोषणा की है जिसमें से सात टिकट तो परिवारवाद के खाते में गए है. तेजस्वी ने आरजेडी नेताओं की पत्नियों, बेटों और बेटियों को चुनावी टिकट सौंपे है.

ejashwi Yadav

आरजेडी ने दिग्गज नेता जगदानंद के बेटे सुधाकर कुमार सिंह को रामगढ़ से टिकट दिया है, कांति सिंह के पुत्र ऋषि सिंह को ओबरा से, शहपुर से शिवानंद तिवारी के बेटे राहुल तिवारी को टिकट दिया गया है.

इसके आलावा जयप्रकाश यादव के भाई विजय प्रकाश को जमुई से चुनावी मैदान में उतारा गया है, जय प्रकाश यादव की बेटी दिव्या प्रकाश को भी टिकट दिया गया है उन्हें तारापुर सीट से टिकट मिला है. राज वल्लभ प्रसाद की पत्नी विभा देवी को नवादा से और अरुण यादव की बीवी किरण देवी को संदेश से टिकट दिया गया है.

आपको बता दें कि राजद महागठबंधन के साथ चुनावी मैदान में उतर रहा है. राजद ने कांग्रेस और भाकपा-माले (लिबरेशन) जैसी वामपंथी दलों के साथ गठजोड़ किया है. जिसके तहत राजद बिहार में 144 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी. इसके आलवा कांग्रेस को गठबंधन के तहत 70 सीटें मिली है.

जबकि भाकपा-माले (लिबरेशन) को 19 सीटें मिली है जिन पर उन्होंने अपने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा सोमवार को कर दी है. इसके आलावा भाकपा को छह सीट और माकपा को चार सीटें मिली है. वहीं राजद की उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट जल्द आने के कयास लगाए जा रहे है. वहीं कांग्रेस भी जल्द ही अपने उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर सकती है.

साभार- जनसत्ता

Leave a Comment