फैक्ट चेक: क्या चीन ने पैंगोंग झील को पर्यटकों के लिए खोला, क्या अब भारतीयों को लेना होगा वीजा?

लद्दाख में सीमा को लेकर चीन से जारी विवाद के बीच चीन ने पैंगोंग त्‍सो झील को अंतरराष्‍ट्रीय और घरेलू पर्यटकों के लिए खोल दिया है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार चीन ने 29 और 30 अगस्‍त को पैंगोंग के दक्षिणी हिस्‍से में मोर्चा खोल दिया है. इसे लेकर सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो में चीनी टूरिस्‍ट को झील पर बोट की मदद से सैर के मजे उठाते देखा जा सकता हैं.

कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता शमा मोहम्मद ने वायरल वीडियो को ट्वीट करके कहा कि एक भारतीय होने के नाते इस वीडियो को देखकर मेरा खून खौलता है. चीनी पर्यटक साफ तौर पर पैंगॉन्ग त्सो में छुट्टियां मनाते हुए देखा जा रहा है.

Pangong Tso

उन्होंने आगे कहा कि वहीं दूसरी तरफ पीएम नरेंद्र मोदी अभी भी चीन के झूठ के साथ समझौता कर रहे हैं कि भारतीय सीमा में किसी भी तरह की कोई घुसपैठ या कब्जे वाली घटना नहीं हुई है. वहीं कांग्रेस के सोशल मीडिया विभाग के राष्ट्रीय संयोजक सरल पटेल ने लिखा कि पैंगोंग झील इलाके में चीनी पर्यटक.

इसके अलावा कांग्रेस नेता सलमान निजामी ने भी वीडियो पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा कि लद्दाख की पैंगोंग झील में चीनी पर्यटक. क्या कोई 56 इंच के चौकीदार से पूछेगा कि क्या अब भारतीयों को पैंगोंग झील जाने के लिए वीजा की जरुरत पड़ने वाली हैं?

आपको बता दें कि लद्दाख में स्थित पैंगोंग त्सो झील का करीब एक चौथाई भाग भारतीय सीमा क्षेत्र में स्थित है जबकि शेष भाग चीन की सीमा के अंतर्गत स्थित है. वायरल वीडियो में नजर आ रहा चीनी यात्री चीन वाले हिस्से में घूमता नजर आ रहा है.

इसी झील के उत्तरी किनारे पर स्थित फिंगर 4 को लेकर भारत और चीन के बीच सीमा विवाद शुरू हुआ था. बता दें कि पैंगोंग झील पूर्वी लद्दाख में 826 किलोमीटर के बॉर्डर के केंद्र के एकदम करीब है. इसे लेकर पक्ष का कहना है कि झील के 15 किलोमीटर पश्चिम तक एलएसी है. झील के उत्‍तरी किनारे पर बंजर पहाड़ियां स्थित है जिन्हें छांग छेनमो कहा जाता है.

आपको बता दें कि इन पहाड़ियों के ही उभरे हुए हिस्सों को सेना फिंगर्स के नाम से बुलाती है. भारत का दावा रहा है कि एलएसी की सीमा फिंगर आठ तक है जबकि भारत सिर्फ फिंगर 4 तक के इलाके को ही नियंत्रित करती है. जबकि फिंगर 8 पर चीन की बॉर्डर पोस्‍ट्स लगे हुए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *