50 साल पुराना हनुमान मंदिर तोड़े जाने के बाद Twitter पर मांग उठी ‘रेलमंत्री मजारें हटाओ’

दिल्ली में 50 साल पुराना हनुमान मंदिर तोड़े जाने के बाद लोगों में काफी गुस्सा है. जिसको लेकर ट्विटर पर और सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर लोगों ने मुहिम छेड़ दी है, ‘रेल मंत्री मजारे हटा’ओ.

आपको बता दें कि, दिल्ली के चांदनी चौक में बीते रविवार को 50 साल पुराने हनुमान मंदिर को अपनी जगह से हटा दिया गया है, हालांकि इस दौरान हिंदू संगठनों द्वारा काफी हो-हल्ला भी किया गया.

भारी चाक-चौबंद पुलिस व्यवस्था के चलते वहां किसी तरह की अप्रिय बात नहीं हो पाई. आपको बता दें कि जब पुलिस ने इस मंदिर को हटवाया तब वहां के तोड़फोड़ से निकले मलबे को भी तुरंत ही हटा लिया गया, और उधर हाल के हाल ही एक सड़क भी बना दी गई.

सोशल मीडिया पर कुछ लोग इसको भाजपा का कारनामा बता रहे हैं, जबकि कुछ लोग इसे आम आदमी पार्टी को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं.

फिलहाल लोगों की मांग है कि उस मंदिर की पुनर्स्थापना की जाय और सोशल मीडिया से लेकर सड़कों तक इसकी मांग जोरों पर है.

वैसे कुछ लोग इस हिंदूवादी सरकार को भी कोस रहे हैं, कि आख़िर इन लोगों के रहते हुए यह कैसे हो गया कि बीच दिल्ली में सरे आम एक मंदिर को तोड़ा गया.

मंदिर को तोड़ने के बाद उसका मालवा साफ करने के बाद भी और लोगों का विरोध प्रदर्शन चल ही रहा है. इसलिए सुरक्षा के लिहाज से वहां भारी पुलिस बल और सेना के जवानों को लगाया गया है, जिससे इलाके में शांति बनी रहे और वहां किसी तरह की अप्रिय घटना ना हो पाए.

हालांकि इस दौरान किसी भी भाजपा नेता का इस मामले को लेकर बयान नहीं आया है. वहीं कुछ अन्य राजनीतिक जिम्मेदार बड़े लोग भी इस मामले में पूरी तरह से चुप्पी साधे हुए हैं.

क्योंकि उन्हें यह अच्छी तरह से पता है कि किसी भी धर्म की धार्मिक भावनाएं हमारे देश के लोगों में भरपूर होती हैं और चाहे किसी भी समुदाय के लोग हैं वह अपने धार्मिक स्थल से किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ नहीं चाहते.

Leave a Comment