Breaking News

एक ही परिवार के 21 सदस्य हुए कोरोना पॉजिटिव, एक-दूसरे को सपोर्ट कर ऐसे ठीक हुए

कोरोना के दूसरी लहर में लोगों को न जाने किस-किस तरह के दिन देखने पड़ रहे हैं। किसी ने कल्पना नहीं की होगी कि 21 सदस्यों का बड़ा परिवार एक साथ कोरोना वायरस का शिकार हो जाएगा। उन्हें ऐसी परेशानी झेलनी पड़ेगी कि परिवार की सबसे बड़ी बुजुर्ग महिला की मौत के बाद उनका श्राद्धकर्म और ब्रह्मभोज भी नहीं हो पाएगा।

इस तरह की बात किसी ने सपने में भी नहीं सोंची होगी। ऐसा इसलिए हुआ कि एक साथ पूरे परिवार पर कोरोना वायरस ने हमला कर दिया। RTPCR टेस्ट में 10 साल के छोटे बच्चे से लेकर परिवार के बड़े-बुजुर्ग तक, सभी पॉजिटिव निकले। परिवार के 21 लोगों की रिपोर्ट देखकर सभी सदस्यों के बीच हड़कंप मच गया था। लेकिन, कहानी यहीं पर खत्म नहीं होती है।

Corona Positive ek hi pariwar ke log

निगेटिव दौर में यह मामला परेशान करने वाला जरूर है, पर एक-दूसरे की मेंटली सपोर्ट से निगेटिव होकर सीख देना वाला भी है। यह मामला मेडिकल इक्यूपमेंट का कारोबार करने वाले और पटना के रूकनपुरा इलाके में सौभाग्य शर्मा पथ के रहने वाले 38 साल के रवि कुमार सिंह और उनके परिवार का है।

दादी के निध’न की खबर सुनकर जुट गया था पूरा परिवार

रवि कुमार सिंह के अनुसार उनकी 85 साल की दादी पार्वती देवी, चाचा, चाचीऔर बेटे-बहु सभी साथ में फुलवारी शरीफ के राष्ट्रीयगंज वाले घर में रह रही थे बात 3 अप्रैल की है। रात में अचानक से दादी की तबियत बिगड़ी। 4 अप्रैल की सुबह में जब रवि मॉर्निंग वॉक पर थे तब उन्हें कॉल आया और दादी की तबियत खराब होने की जानकारी मिली।

चंद मिनटों में वो दादी के पास पहुंच गए। तब तक सब ठीक था, मगर 2-4 घंटे में ही उनकी घर पर ही मौत हो गई। उनके निधन की खबर सुनकर पूरा परिवार जुट गया। साथ में बुआ और उनके दोनों बेटे भी आ गए। रूकनपुरा वाले घर से पापा, मां, पत्नी और बच्चे भी आ गए। लेकिन, उस वक्त तक किसी को यह समझ में नहीं आया था कि दादी के निधन की वजह क्या है? कोरोना होने के बारे में किसी ने सोंचा तक नहीं था।

भाभी को कराना पड़ा हॉस्पिटल में एडमिट

दादी के निधन के अगले दिन ही 5 अप्रैल को भाभी रेणू सिंह की तबियत खराब होनी शुरु हुई। उन्हें तेज बुखार के साथ ही सांस लेने में तकलीफ होने लगी। 11 अप्रैल को पाटलिपुत्रा इंडस्ट्रियल एरिया के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया।

जब डॉक्टर ने उनकी HRCT कराई और रिपोर्ट आई तो वो कोविड पॉजिटिव मिली। फिर दादी के निधन के वक्त जुटे भाभी समेत परिवार के सभी 21 सदस्यों का RTPCR 12 अप्रैल को कराया गया, जिसमें सभी की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

परिवार के सभी सदस्यों के बीच डर का माहौल बन गया। किसी को कुछ समझ में नहीं आ रहा था। लेकिन एक बात यह स्पष्ट हो गई थी कि दादी की मौत भी कोरोना की वजह से हुई होगी।

परिवार के सभी लोग हुए आइसोलेट

ऐसी स्थिति में किसी तरह से दशकर्म पर बाल मुंडन का काम हुआ। मगर, विधि-विधान के साथ न तो दादी का श्राद्धकर्म हुआ और न ही ब्रह्मभोज हुआ। तब से परिवार के सभी लोग आइसोलेट हैं।

पॉजिटिव होने के बाद भी रवि की पत्नी अर्पणा सिंह पूरे परिवार का ख्याल रख रही थीं और खाना खुद से बनाकर सभी को दे रही थीं। मुश्किल के इस घड़ी में कारोबारी रवि ने अपने परिवार का ख्याल रखा। हर सदस्य ने एक-दूसरे को मेंटली सपोर्ट किया।

मेडिकल फिल्ड से जुड़े होने की वजह से कई डॉक्टर का साथ मिला। इस कारण रवि और उनका पूरा परिवार अब कोरोना पॉजिटिव नहीं, बल्कि निगेटिव हो गया है। इसलिए कोरोना पॉजिटिव की रिपोर्ट आने पर आप भी धैर्य और सूझबूझ के साथ काम करें। पैनिक न हों, उससे बचें।

About Admin

Check Also

anjana sudhir

अंजना, रजत शर्मा, सुधीर चौधरी और दीपक चौरसिया जैसे पत्रकारों को सुप्रीम कोर्ट की फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने एक मामले को लेकर भारतीय मीडिया को जमकर फटकार लगाई है. सुप्रीम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *