afgan

अफगानिस्तान के लिए दुनिया भर से मदद की गुहार लगायी इस अफगानी महिला फिल्म मेकर ने

तालिबान अफगानिस्तान पर अपना कब्ज़ा जमा चूका है. अफगान के अधिकतर हिस्सों तालिबान के पहुंच में आ चुके है और अफगान के हालत लगातार बिगड़ते ही जा रहे है. जिसके बाद दुनिया भर में अफगानिस्तान के हालातों को लेकर बहस छिड़ गई है. इसी बीच अफगान फिल्म निर्देशक सहारा करीमी ने दुनियाभर में मदद के लिए गुहार लगाई है. उन्होंने दुनिया के फिल्म समुदायों और सिनेमा प्रेमियों के नाम एक पत्र भी लिखा है.

इस पत्र में उन्होंने अफगानिस्तान की भयावह स्थिति को बताते हुए मदद की गुहार लगाई है. बॉलीवुड फिल्म निर्देशक अनुराग कश्यप ने सहारा के इस पत्र को अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से शेयर किया है. जिसमें सहारा करीमी ने लिखा है कि मैं एक फिल्म निर्देशक हूं और मेरा नाम सहारा करीमी है.

सहारा करीमी की गुहार

उन्होंने लिखा कि एकमात्र सरकारी स्वामित्व वाली फिल्म कंपनी अफगान फिल्म की वर्तमान महानिदेशक हूं. मैं अपने टूटे हुए दिल के साथ इस उम्लिमीद में लिख रही हूं कि आप तालिबान से मेरे खूबसूरत देश को बचाने में शामिल होंगे.

sahraa karimi

पिछले कुछ ही दिनों में तालिबान ने कई प्रांतों को अपने कब्जे में ले लिया है. वो हमारे लोगों का नरसंहार कर रहे है, बच्चों का अपहरण किया जा रहा है, एक महिला को सिर्फ उसके कपड़ों के लिए मा’र दिया गया. उन्होंने एक हास्य कलाकार को प्रताड़ित करके मार डाला.

उन्होंने एक प्रागैतिहासिक कवि और सरकार से जुड़े कई लोगों को भी मार डाला है. कई लोगों को सार्वजनिक तौर पर फांसी पर झुला दिया गया. काबुल में परिवारों को शिविर में रहना पड़ रहा है जहां दूध और भोजन के आभाव में बच्चों की मौ’त हो रही है. लाखों परिवारों को विस्थापित कर दिया गया है.

सहारा ने आगे लिखा कि यह एक मानवीय संकट है, लेकिन पूरी दुनिया ख़ामोशी साधे हुए है. हालांकि हमें इस चुप्पी की आदत हो चुकी है लेकिन हम सब अच्छे से जानते हैं कि यह कहीं से भी सही नहीं है. उन्होंने लिखा कि हमें आपकी आवाज की जरूरत है.

तालिबान सत्ता में आया तो..

वह आगे लिखती है कि अगर तालिबान सत्ता में काबिज रहता है तो सभी कलाओं पर रोक लगा दी जाएगी और महिलाओं के अधिकारों का हनन किया जाएगा. इससे पहले जब तालिबान की सत्ता थी स्कूल जाने वाली लड़कियों की संख्या शून्य थी।.

तालिबान ने पिछले ही कुछ हफ्तों में कई स्कूलों को नष्तट कर लिया है और 20 लाख लड़कियों को स्कूल से निकाला गया है. तालिबान की इस ज्ख्ती पर दुनिया की चुप्पी समझ से परे है लेकिन मैं अपने देश की आजादी के लिए लडूंगी लेकिन मैं यह अकेले नहीं कर सकती, इसमें हमें आप सब का सहयोग चाहिए.

करीमी ने आखिर में लिखा कि हमें अफगानी महिलाओं, बच्चों, कलाकारों की ओर से आपके समर्थन और आवाज की आवश्यकता है. हमें अभी आपकी मदद की सबसे ज्यादा जरूरत है. कृपया मदद करें और दुनिया को अफगानों को ऐसे छोड़ने न दें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *