VIDEO: हम कथा सुनाते रिजल्ट्स के इंतजार की… बेरोजगारों का गाना हुआ वायरल, शेयर कर रवीश बोले- देखकर रोना आ गया

अपनी निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए मशहूर पत्रकार और एनडीटीवी न्यूज़ चैनल के एंकर रवीश कुमार ने अपने फेसबुक पेज पर एक पोस्ट डाला है. इस पोस्ट में उन्होंने एक वीडियो भी शेयर किया है जिसमें कुछ लोग एक गाना गा रहे है. दरअसल यह गाना देश के बेरोजगारों के हालातों पर तैयार किया गया है. इस गाने को शेयर करते हुए पत्रकार रवीश कुमार ने लिखा कि बेरोजगारों का गाना देखकर रोना आ गया.

रवीश कुमार ने आगे बताया कि यह गाना सुनकर उनका मन बहुत उदास हो गया. रवीश लिखते है कि अब परीक्षाओं के इंतजार का दुःख बेरोजगारों के लिए मनोरंजन का साधन बन गया है. बता दें कि यह गाना मग’धी ब्वा’य’ज द्वारा गाया गया है.

unemployment

यह सांग बिहार सरकार में बेरोजगारी और प्रतियोगी परीक्षाओं के रिजल्ट और ज्वाइनिंग के इंतजार पर आधारित है. इस गाने को सोशल मीडिया पर खूब पसंद किया जा रहा है. बड़ी तादात में लोग इस गाने को शेयर कर रहे है और लाइक कर रहे हैं.

बेरोजगारी पर बने इस गाने को शेयर करते हुए रवीश कुमार ने मोदी सरकार और राज्य सरकारों पर कटाक्ष करते हुए लिखा कि युवाओं की राजनैतिक चेतना अब समा’प्त हो चुकी है और उन्हें बेरोजगारी ने दयनीय बना दिया है. इसी के लिए उन्हें अपनी समस्या भी आरती के रूप में बतानी पड़ रही है.

रवीश ने लिखा कि युवाओं के भीतर का विपक्ष ख’त्म हो गया है. बता दें कि रवीश कुमार कई बार बेरोजगारी के मुद्दे को उठा चुके है. वह अपने टीवी शो प्राइम टाइम में भी इस मुद्दे पर कई बार बात कर चुके है.

पिछले दिनों जब छात्रों ने बड़ी तादात में बेरोजगारी के मुद्दे पर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया था, उस वक्त भी रवीश कुमार ने सरकार पर निशाना साधा था. अपने टीवी शो के दौरान रवीश कुमार कोरोना सं’कट के बीच करीब 2 करोड़ लोगों की नौकरी जाने का दावा भी कर चुके हैं.

रविश के अनुसार 81 लाख लोग जुलाई और अगस्त महीने के दौरान ही बेरोजगार हो गए थे. रवीश कुमार ने सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनमी के सर्वे का हवाला देते हुए कहा कि नौकरियां गंवाने वाले यह सभी लोग नियमित सैलरी पर काम करने वाले लोग हैं.

Leave a Comment