VIDEO: पंगा गर्ल कंगना रनौत ने लाइव टीवी पर खुलेआम बोला झूठ, तो लोगों ने खोल दी पोल, वायरल हुआ विडियो

इन दिनों सुर्खियां बटोर रही कंगना रनौत ने हाल ही में एक इंग्लिश न्यूज़ चैनल को दिए गए इंटरव्यू में बताया कि उन्हें एक बार मजबूरी में शिवसेना को वोट देना पड़ा था क्योंकि वहां बीजेपी का ऑप्शन ही नहीं था. लेकिन जब इंडिया टुडे के रिपोर्टर कमलेश सुतार ने उनके दावे पर पड़ताल की तो सामने आया कि कंगना का यह दावा त’थ्या’त्म’क रूप से मात्र एक झूठ है. वहीं अपने झूठ की पोल खुलने के कंगना भड़’क उठी और रिपोर्टर को लीगल नोटिस भेजने और जेल कराने की ध’मकी देने लगी.

दरअसल एक टीवी इंटरव्यू में कंगना रनौत ने कहा कि जब मैं बांद्रा में वोट डालने गई और वोटिंग मशीन के सामने पहुंची तो मैं सोच में पड़ गई. मैं एक बीजेपी समर्थक हूं और मैं मशीन को देखते हुए सोच रही थी कि इसमें बीजेपी का बटन कहाँ है? फिर मुझे मजबूरी में शिवसेना को ही वोट देना पड़ा.

bjp vot

उन्होंने आगे कहा कि मैं सिर्फ बीजेपी को वोट देना चाहती हूं, मुझे राजनीति समझ नहीं आती, मुझे इसका कोई अनुभव नहीं था. मुझे नहीं पता ये गठबंधन क्यों हुआ लेकिन ये हुआ. इसी के चलते मुझे शिवसेना का बटन दबाने पर मजबूर होना पड़ा.

खास बात यह है कि कंगना विधानसभा चुनाव में बांद्रा वेस्ट और लोकसभा चुनाव में नार्थ सेंट्रल मुंबई सीट के लिए वोटिंग करती है. महाराष्ट्र में 2009 से 2019 तक 3 लोकसभा हुए और इतने ही विधानसभा चुनाव हुए यानी कुल 6 चुनाव हुए. इनमें से 5 चुनाव बीजेपी और शिवसेना ने मिलकर ल’ड़े.

शिवसेना और बीजेपी सिर्फ साल 2014 के विधानसभा चुनाव के दौरान एक दुसरे के सामने आई. लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि विधानसभा और लोकसभा के दौरान गठबंधन के तहत बांद्रा वेस्ट और मुंबई नॉर्थ सेंट्रल सीट हर बार बीजेपी के खाते में ही गई. यानि यहां पांचों बार बीजेपी के उम्मीदवार मैदान में थे शिवसेना ने अपना प्रत्याशी उतरा ही नहीं.

ऐसे में सवाल यह उठता है कि जब शिवसेना का प्रत्याशी था ही नहीं तो कंगना के सामने शिवसेना को वोट करने की मजबूरी कैसे हो सकती है? अगर शिवसेना ने उम्मीदवार ही नहीं उतारा तो कंगना ने शिवसेना को मजबूरी में वोट डाला कैसे? खेर इसका जवाब तो सिर्फ कंगना रनौत ही दे सकती है.

वहीं बात अगर 2014 के विधानसभा चुनाव की करें तो इस बार शिवसेना का कैंडिडेट मैदान में था लेकिन गठबंधन टूट जाने के चलते इस सीट से बीजेपी ने भी अपना कैंडिडेट उतारा था तो फिर कंगना को बीजेपी का विकल्प क्यों नहीं दिखा. उनके झूठ का पर्दाफाश होने के बाद उन्हें सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल किया जा रहा है.

Leave a Comment