कंगना रनौत के बाद अक्षय कुमार पर भड़के संजय राउत कहा- मुंबई क्या सिर्फ पैसा कमाने के लिए है? तुम लोग…

कंगना रनौत पिछले कई दिनों से सुर्ख़ियों में बनी हुई है. उन्होंने पिछले दिनों मुंबई की तुलना पीओके से कर दी थी जिसके बाद उनके इस वि’वा’दित बयान पर जमकर हंगना हुआ. कंगना के इस बयान के बाद शिवसेना के नेतृत्व वाली बीएमसी ने उनके मुंबई स्थित अवै’ध ऑफिस पर बुल’डो’जर चलवा दिया था. बीएमसी की इस कार्रवाई को शिवसेना द्वारा बदले की कार्रवाई के तौर पर देखा जा रहा है. वहीं इस घट’ना के बाद अभिनेत्री ने पाकिस्तान से तुलना की.

इसके बाद से ही महाराष्ट्र की राजनीति काफी गर्मा गई है. इसी बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने कंगना के बयान को मुंबई के लिए अप’मान’ज’नक बताया था. अब उन्होंने इस मामले को लेकर अक्षय कुमार पर निशाना साधते हुए कहा है कि जब मुंबई का अपमान किया जा रहा था तो अक्षय कुमार जैसे अभिनेता भी साथ खड़े नहीं हुए.

kangana ranout

उन्होंने अक्षय कुमार से सवाल करते हुए कहा कि क्या मुंबई सिर्फ पैसा कमाने के लिए है? शिवसेना के मुखपत्र सामना में कंगना को निशा’ने पर लेते हुए संजय राउत ने लिखा कि एक नटी अभिनेत्री  मुंबई में रहकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के लिए तू-तड़ा’क की भाषा का इस्तेमाल करती है, उन्हें वह चुनौती देती है.

उन्होंने आगे लिखा कि लेकिन इसके बाद भी महाराष्ट्र की जनता ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी जाती है, ये कैसी एकतरफा आजादी है? संजय ने मामले में फिल्म इंडस्ट्री की चु’प्पी पर भी सवाल उठाए. उन्होंने लिखा कि कम-से-कम आधे हिंदी फिल्म जगत को तो मुंबई के अपमान के विरो’ध में आगे आकर बोलना चाहिए था.

उन्हें आगे आकर बोलना चाहिए था कि कंगना का मत पूरी फिल्म इंडस्ट्री का मत नहीं हैं. सामना में अक्षय का नाम लेते हुए कहा गया है कि अक्षय कुमार जैसे बड़े कलाकारों को तो कम-से-कम सामने आना ही चाहिए था. उन्हें भी मुंबई ने सब कुछ दिया है, मुंबई ने हर किसी को दिया है लेकिन मुंबई के संदर्भ में आभार व्यक्त करने में कइयों को तकलीफ होती है.

उन्होंने आगे लिखा कि दुनियाभर के रईसों के घर मुंबई में स्थित है, लेकिन जब इस शहर का अपमान किया जाता है तो सभी गर्द’न झुकाकर चुपचाप बैठ रहते है. वहीं कंगना के ऑफिस पर हुई कार्रवाई पर लिखा है कि जब अभिनेत्री के अवैध निर्मा’ण पर बुलडोजर चलता है तो वो ड्रा’मा करने लगती है और इसे राम मंदिर बताने लगती है.

आगे कहा गया है कि उसने अपना यह अ’वै’ध निर्मा’ण उसी के द्वारा घोषित किये गए पाकिस्तान में किया था. पहले तो मुंबई को पीओके कहती है और जब उसी पाकिस्तान में गै’रका’नूनी तरीके से बने निर्माण पर स’र्जिक’ल स्ट्रा’इ’क होती है तो छा’ती पीटने लगती है. दुर्भाग्य से यह कहना पड़ रहा है कि मुंबई को पाक और बाबर कहने वालों के पीछे महाराष्ट्र की बीजेपी खड़ी हैं.

Leave a Comment