nusrat jahan

टीएमसी सांसद नुसरत जहां बनी मां, पूर्व पति निखिल ने कहा- मेरा बच्चा नहीं है, लोगों ने जमकर सुनाई खरी-खोटी

बंगाल से तृणमूल कांग्रेस की सांसद और बंगाली अभिनेत्री नुसरत जहां मां बन गई है. 26 अगस्त को उन्होंने कोलकाता के एक निजी अस्पताल में बेटे को जन्म दिया. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उन्हें 25 अगस्त की रात हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, उन्हें जाने-माने एक्टर यश दासगुप्ता अस्पताल लेकर आए थे. वहीं यह खबर सामने आने के बाद लोग उन्हें बधाई दे रहे है.

वहीं सोशल मीडिया पर कुछ लोग उनकी खिचाई करते हुए भी नजर आ रहे है. कुछ लोगों तरह-तरह की बातें करते हुए सवाल कर रहे है कि आखिर ये बच्चा है किसका?

निखिल का दावा मेरे बच्चा नहीं है

बता दें कि पिछले दिनों तृणमूल सांसद और बंगाली अभिनेत्री नुसरत जहां की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर सामने आई थी जिसमें वो प्रेग्नेंट दिख रही थीं. नुसरत जहां की प्रेगनेंसी को लेकर उनसे अलग हो चुके उनके पति निखिल जैन ने बड़ा बयान दिया था.

nusrat

निखिल जैन ने दावा करते हुए कहा था कि ये बच्चा उनका नहीं है. उनका कहना था कि वो लंबे वक्त से नुसरत के साथ नहीं रहे है इसलिए ये बच्चा उनका हो ही नहीं सकता है.

TMC सांसद नुसरत ने पिछले दिनों ही एक बयान जारी करते हुए निखिल जैन से अलग होने का ऐलान किया था. अपने बयान में नुसरत ने कहा था कि उनकी शादी को भारत में मान्यता नहीं मिल रही है.

बता दें अभिनेत्री की प्रेग्नेंसी की खबर सामने आने के बाद भी काफी विवाद हुआ था. दरअसल इस दौरान नुसरत और बीजेपी नेता और अभिनेता यश दासगुप्ता के नजदीकियों की खबरें छाई हुई थी.

जून 2019 में एक्ट्रेस नुसरत जहां ने बिजनेसमैन निखिल जैन के साथ शादी रचाई थी. उनकी शादी तुर्की में हुई है और शादी की कई तस्वीरें भी सामने आई थी. वहीं निखिल और जहां के अलग होने के बाद निखिल जैन ने नुसरत की प्रेगनेंसी पर सवाल उठाए थे.

सांसद नुसरत के पूर्व पति निखिल जैन ने कहा था कि यह बच्चा उनका नहीं है. निखिल ने नुसरत पर आरोप लगाते हुए कहा था कि शादी के कुछ वक्त बाद ही उनका व्यवहार पूरी तरह से बदल गया था.

जैन ने कहा कि मैंने नुसरत से कई बार अनुरोध किया कि हमारी शादी का पंजीकरण करा लिया जाए. लेकिन उन्होंने मेरी बात नहीं मानी. वहीं नुसरत का कहना है कि एक विदेशी भूमि पर शादी होने के चलते तुर्की मैरिज रेगुलेशन के मुताबिक हमारी शादी मान्य या कानूनी तौर पर वैध नहीं है.

यह शादी दो धर्मों के लोगों के बीच में हुई थी, इसलिए भारत में इस शादी के लिए वैधानिक मान्यता लेने की जरूरत थी जोकि नहीं ली गई. इसलिए तलाक का सवाल ही नहीं उठता है. यह शादी कानूनी तौर पर अवैध है और यह सिर्फ एक लव-इन-रिलेशनशिप था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *