VIDEO: सपा सांसद की मांग- मस्जिदों और ईदगाहों में नमाज पढ़ने की दी जाए अनुमति

समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर रहमान बर्क अपने बयान के चलते चर्चा में बने हुए हैं. रहमान ने कोरोना महामारी से बचाव के लिए लगाई गई कई पाबंदियों को लेकर बयान दिया हैं. सपा सांसद ने सामूहिक नमाज़ को लेकर मस्जिदों में लगी पाबंदी को हटाने की मांग करते हुए कहा कि नमाज पढ़ने से ही कोरोना ख’त्म हो पाएगा, इसलिए सरकार मस्जिदों में नमाज़ अदा करने की अनुमति दे.

शफीकुर्रहमान ने दो दिन पहले ही कहा कि कोरोना वायरस कोई बीमारी नहीं हैं बल्कि यह तो हमारे कर्मों का दंड है जो अल्लाह हमें दे रहे हैं. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अल्लाह से माफी मांगना ही कोरोना से बचने का सबसे अच्छा तरीका है.

shafiqur rahman 1

रहमान ने कहा कि अल्लाह माफ करेगा तभी हम कोरोना से बच पाएंगे. इसके बाद अब उन्होंने ईद-उल-अजहा पर मस्जिदों और ईदगाहों में नामज़ अदा करने की अनुमति देने की मांग की हैं.

शफीकुर रहमान बर्क ने कहा कि ईद-उल-अजहा के खास मौके पर मुस्लिमों की मस्जिदों और ईदगाह में सामूहिक नमाज पर पाबंदी लगाना पूरी तरह से गलत है.

उन्होंने कहा कि सरकार ईद से पहले मस्जिद और ईदगाह में मुस्लिमों के नमाज अदा करने पर लगी पाबंदी हटाए क्योंकि अगर सभी मुस्लिम मस्जिदों में नमाज़ अदा करेंगे तभी यह देश कोरोना वायरस से बचेगा.

एक टीवी शो में बात करते हुए उन्होंने कहा कि अगर यह कोई बीमारी होती तो अब तक इसकी दवा वैज्ञानिक बना चुके होते लेकिन यह कोई बीमारी है ही नहीं. जिस पर एंकर ने सवाल करते हुए कहा कि जब यह बीमारी छूने और संपर्क में आने पर फ़ैल रही है तो आप पाबंदियां हटाने की वकालत क्यों कर रहे हैं.

एंकर ने आगे कहा कि अगर ऐसा किया जाता है तो इस बीमारी के और लोगों में फैलने का ख’तरा बढ़ जाएगा. जिस पर उन्होंने कहा कि जब तक इसका कोई इलाज नहीं मिलता हैं तब तक इसका इलाज यही है कि हम इबादत और दुआएं करें.

इसके साथ ही शफीकुर्रहमान ने ईद के मौके पर पशुओं के बाजार लगाने की अनुमति दी जाने की बात भी कहीं. उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन ने ईद के मौके पर पशुओं के बाजार पर पाबंदी लगा रखी हैं.

उन्होंने तर्क देते हुए कहा कि ईद-उल-अजहा मुस्लिमों का बड़ा त्यौहार है, ऐसे में जब मुसलमान जानवरों की खरीदारी नहीं करेगा तब तक वो त्यौहार कैसे मना सकता हैं, इसीलिए जिला प्रसासन जानवरों के बाजार खोलने पर लगी पाबंदी तुरंत हटाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *