विकास दुबे का एक और ऑडियो आया सामने, सरेंडर से लेकर पक’ड़े जाने तक सब कुछ था पहले से तय, मदद कर रहे थे एमपी और…

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की ह’त्या करने वाले विकास दुबे एनकाउं’टर में मा’रा गया लेकिन अभी भी विकास दुबे का मामला लगातार खबरों में है. एक तरफ जहां एनका’उंटर को लेकर अभी भी कई सवाल खड़े हुए हैं जिनके जवाब मिलना बाकि है. वहीं दूसरी तरफ विकास दुबे का एक और कथित ऑडियो सामने आया है. यह ऑडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है और इसे लेकर जमकर चर्चा की जा रही है.

इस ऑडियो में दो लोगों को बात करते हुए सुना जा रहा है. जिसमें से एक कथित तौर पर विकास है, ऑडियो में विकास लास्ट में कहता है कि यह मन लिया जाए कि वो ही पंडित है. ऑडियो में कई टॉपिक पर बात की जा रही है लेकिन खास बात यह है कि इसमें सबसे ज्यादा जिक्र जेल में बंद गुड्डन के बारे में पूछते हुए किया गया है.

vikas dubey

ऑडियो में कथित विकास कहता है कि चिंता मत कीजिए सरेंडर से लेकर पकड़े जाने तक का सारा घटनाक्रम तय हो गया है. कहीं कोई दिक्कत की बात नहीं हैं अब. कथित विकास कह रहा है कि बस गुड्डन का नम्बर किसी तरह से खोज लोग. यह ऑडियो 8 जुलाई का बताया जा रहा है.

आपको बता दें कि मुंबई एटीएस ने गुड्डन को गिरफ्तार किया था जिसे ट्रांजिट रिमांड पर कानपुर लाया गया है. ऑडियो में बातचीत की शुरुआत गुड्डन से ही होती है. जिसे विकास बताया जा रहा है वो कहता है कि गुड्डन का मोबाइल बंद आ रहा है, उसका नंबर दो.

दूसरी तरफ का व्यक्ति भी यही कहता है कि गुड्डन से बात नहीं हो पा रही है. फिर विकास बताता है कि वो अभी ग्वालियर में है और सुरक्षित है. तब वो व्यक्ति विकास को हर प्रकार की मदद कराने का आश्वासन देता हैं.

ऑडियो में कथित विकास और दूसरे शख्स के बीच एक फेसबुक ग्रुप को लेकर भी चर्चा होती है जिसका एडमिन गुड्डन है. विकास कहता है कि सोशल मीडिया पर यह फेसबुक आईडी प्रयोग की जा रही है. यह किसी तरह का कोड है या ग्रुप में कोई विशेष जानकारी है यह अभी तक साफ नहीं हुआ है.

कथित विकास पूरे कॉल के दौरान गुड्डन के बारे में ही पूछता रहा. वो यह भी कहता है कि वो पुलिस से बचने के लिए व्हाट्सएप कॉल का इस्तेमाल कर रहा है. विकास जेल में बंद निलंबित चौबेपुर एसओ विनय तिवारी को लेकर कहा कि विनय गुड्डन के हाथ में था, सारा सिस्टम उसी ने संभाल रखा था.

साभार- लाइव हिंदुस्तान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *